Brahmi Publication

Mithila, History, Literature and Art

Chhath Puja

2017 ई. में छठ पर्व इस प्रकार होगा-

दिनांक 23 अक्टूबर, सोम-   निरामिष भोजन- माँछ-मडुआ बारब।

दिनांक 24 अक्टूबर, मंगल- संयम- नहा-खाए।

दिनांक 25 अक्टूबर, बुध-    एकभुक्त आदि- खरना।

दिनांक 26 अक्टूबर, बृहस्पति- सायंकालिक अर्घ्य

दिनांक 27 अक्टूबर, शुक्र-    प्रातःकालिक अर्घ्य एवं पारणा।


छठ-पर्वः शास्त्र एवं लोक-परम्परा

भवनाथ झा

इस पर्व के अनेक नाम

छठ पर्व में भगवान् सूर्य की उपासना के साथ स्कन्द की माता षष्ठिका देवी एवं स्कन्द की पत्नी देवसेना इन तीनों की पूजा का महत्त्वपूर्ण योग है। इसी दिन कुमार कार्तिकेय देवताओं के सेनापति के रूप में प्रतिष्ठित हुए थे अतः भगवान् सूर्य के साथ-साथ इन सभी देव-देवियों के नाम इस पर्व के साथ जुड़ गये हैं और कालान्तर में इसका स्वरूप बृहत् हो गया है। धर्मशास्त्रीय ग्रन्थों में इसे स्कन्दषष्ठी, विवस्वत्-षष्ठी इन दोनों नामों से कहा गया है।

Read More>>

मैथिल साम्प्रदायिक छठ पूजा कथा संस्कृत एवं मैथिली अनुवाद सहित>>

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!