Brahmi Publication

Mithila, History, Literature and Art

Sondaika Sohag: Maithili Novel by Dayanand Mallik

सोनदाइक सोहाग (मैथिली उपन्यास)

SONDAIK SOHAG: Maithili Novel by Dayanand Mallik, Edited by Ramakant Rai ‘Rama’, Published by Esamad, Darbhanga, 2016,  150.00

लेखक- दयानन्द मल्लिक

प्रकाशन वर्ष- 2016 ई.

प्रति 300

© श्री जय चन्द्र भगवती, ग्राम एवं पोस्ट-मेघौल, जिला-मधुबनी

संग्रहण एवं संपादन – श्री रमाकान्त राय ‘रमा’

संयोजन -श्री भैरव लाल दास

आवरण ओ साज-सज्जा- श्री भवनाथ झा, पटना

प्रकाशक- इसमाद, मातृ सदन,कटहलबाड़ी, दरभंगा–846004, फोन नं.-08541815531

सहयोग राशि- 150.00 (एक सय पचास) टाका मात्र

मुद्रक  : Impression Publication, Salimpur Ahra ‘Baulia,Kadamkuan, Patna-800003

मूलतः मेघौल, मधुबनी निवासी एवं खाजासराय, दरभंगाक रहवासी जयवल्लभ मल्लिक, दयानन्द मल्लिक (द.न.म.) उपनामे मैथिली लेखनमे संलग्न रहल छलाह। हिनक तीन गोट रचनाक सूचना अछि क्रमशः नारी सँ, एक मुट्ठी छाउर आ सोनदाइक सोहाग। ‘नारी सँ’ नारी मात्राक मनोव्यथासँ सम्बद्ध 19 गोट षट्पदीयुक्त मुक्तककाव्य छल जकर किछु अंश प्रसिद्ध मैथिली त्रैमासिक कर्णामृत (कोलकाता)मे प्रकाशित भेल छल। ‘एक मुट्ठी छाउर’ सामाजिक नाटक छल जे सर्वथा अप्रकाशिते रहल अछि। ‘सोनदाइक सोहाग’ पत्रात्मक शैलीमे रचित उपन्यासिका थिक जकर प्रकाशन 27 गोट धरावाहिकमे प्रसिद्ध मैथिली साप्ताहिक मिथिला मिहिरमे 9 जून 1963 सँ लऽ कऽ 15 दिसम्बर 1963क अवधिमे भेल छल। ई उपन्यासिका मैथिली उपन्यासिकाक क्षेत्रामे एक गोट विचारोत्तेजक ओ प्रौढ़ रचना थिक। सरल-सहज भाषा,सुष्ठु शिल्प, मनोरम उपस्थापन, मोहावरा ओ लोकोक्तिक सटीक प्रयोग एवं नारी विषयक आदर्श एवं राष्ट्रीय भावना निवेशक कारणे पठनीय ओ संग्रहणीय अछि।

पुस्तक किनबाक लेल सम्पर्क करी- ई-समाद

error: Content is protected !!