अपभ्रंश काव्य में सौन्दर्य वर्णन

पुस्तक का नाम- अपभ्रंशकाव्य में सौन्दर्य वर्णन रचनाकार- डॉ. शशिनाथ झा, कुलपति, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा। प्रकाशन वर्ष- 2021ई. सर्वाधिकार- लेखक, डा. शशिनाथ झा रचनाकार के आदेश से तत्काल पाठकों के हित में अव्यावसायिक उपयोग हेतु ई-बुक के रूप में https://brahmipublication.com/ पर प्रकाशित। प्रकाशक- ब्राह्मी प्रकाशन, द्वारा भवनाथContinue Reading

डाकवचन-संहिता

डाकक महत्ता सभ वर्गक लोकक लग समाने रहल अछि। हिनक नीति, कृषि ओ उद्योग सम्बन्धी वचन सभधर्मक लोक अपनबैत अछि। ई भ्रमणशील व्यक्ति छलाह, जतए जाथि, अपन व्यावहारिक वचनसँ सभके आकृष्ट कए लेथि। एहि क्रममे हिनक वचन बंगालसँ राजस्थान धरि पसरि गेल ओ एखनहुँ लोककण्ठमे सुरक्षित अछि, परन्तु ओहिपर स्थानीय भाषाक ततेक प्रभाव पड़ि गेल जे परस्पर भिन्न लगैत अछि। हिनका मिथिलामे डाक ओ घाघ, उत्तर प्रदेश आदिमे घाघ, बंगालमे डंक तथा राजस्थानमे टंक कहल जाइत अछि। ई अपन ‘वचन’ जनिकाँ सम्बोधित कए कहने छथि तनिकाँ मिथिला ने भाँडरि रानी, मगधमे भडुली तथा आनठाम भड्डरी कहल जाइत अछि। Continue Reading

गमला में पौधा

गमला में पौधा/ठिगना सा/

शहरी बाबू सा / एक ड्राइंग रूम में।

दीवारों से घिरा हुआ /

फौलादी दरबाजे पर दरबान खड़ा / संगीन लिए।

Continue Reading