image_pdfimage_print

डॉ० (प्रो.) शशिनाथ झा

जन्मतिथि– 15.2.1954

धारित पद- पूर्व प्राचार्य (Professor), पूर्व व्याकरण विभागाध्यक्ष कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा (विहार) – 846008

सम्प्रति कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय दरभंगा के कुलपति पद पर आसीन। दिनांक 21 सितम्बर, 2020ई.

पितृनाम- स्व० प० गङ्गानाथ झा

निवास (स्थायी)– ग्रा० + पो० – दीप, जिला- मधुबनी (विहार)

वर्तमान आवास- ड्यौढ़ी के पीछे, शुभङ्करपुर, दरभङ्गा (विहार) चलदूरभाष : 09199475909 ई-मेल: shashinathjhadeep@gmail.com

पाण्डुलिपि विशेषज्ञ- मैथिली, बंगाली, नेवारी, आसामी, कैथी एवं देवनागरी

शैक्षणिक योग्यता

  • मध्यमा व्याकरण-1968, द्वितीय श्रेणी, दरभङ्गा
  • शास्त्री व्याकरण-1971, प्रथम श्रेणी, दरभङ्गा
  • आचार्य  व्याकरण-1973, प्रथम श्रेणी, दरभङ्गा
  • आचार्य साहित्य-1978, प्रथम श्रेणी, दरभङ्गा
  • एम०ए०  संस्कृत-1980, प्रथम श्रेणी, मुजफ्फरपुर
  • विद्यावरिधि (Ph.D.) व्याकरण, 1977, उत्तीर्ण, दरभङ्गा
  • विद्यावाचस्पति (D. Litt.) व्याकरण, 1985, उत्तीर्ण, दरभङ्गा

नवीनतम प्रकाशन, 2021ई.

ग्रन्थ
‘गुणेश्वरचरितचम्पू’- संस्कृत गद्यपद्यात्मक चरितकाव्य- कविशेखर बदरीनाथ झा, हिन्दीव्याख्या एवं सम्पादन- नाग प्रकाशन दिल्ली, 2021ई.
‘विद्याकर-सहस्रकम्’ (संस्कृत सुभाषितसंग्रह)- संग्राहक- म.म. विद्याकर मिश्र, नाग प्रकाशन, दिल्ली, 2021ई.
निबन्ध-
“अष्टाध्यायीस्थाः संज्ञाशब्दाः”- संस्कृतमनीषा, वर्ष 16, 2021ई.
“धर्मशास्त्रीया शुद्धिः”- अङ्कज्योतिः भागलपुर, 2021
“प्रेरणाक आदर्श”- अर्पण, दरभंगा- 2021ई.
“मिथिलाक वैदुष्यक आदर्श उदयनाचार्य”- अयोनिजा, अयोध्या, 2021ई.
“अयाचीमिश्रक विद्यावैभव”- अयाची शंकर, सरिसब, 2021ई.
“सांख्यशास्त्रमे पुरुष”- भामती, ठाढ़ी, 2021ई.
सम्पादन
‘शशिकलापरिणयनाटकम्’- पं. ऋद्धिनाथ झा, संस्कृत मनीषा वर्ष 16, 2021ई.
‘पूर्णकामनाटकम्’- पं. ऋद्धिनाथ झा, संस्कृत मनीषा वर्ष 16, 2021ई.
‘कमलानदीपूजनकृत्यम्’- पं. ऋद्धिनाथ झा, संस्कृत मनीषा वर्ष 16, 2021ई.
‘वाग्वैजयन्ती’(अर्कनाथ चौधरी अभिनन्दनग्रन्थ), जयपुर, 2021

इसमाद

म.म. मुकुन्द झा बख्शी कृत “खण्डवला राजवंश : मिथिलाभाषामय इतिहास

गुरु

  • प्राचार्य पं० तेजनाथ झा,
  • पं० श्यामसुन्दर झा (राष्ट्रपति पुरस्कृत),
  • पं० कुलानन्द मिश्र,
  • पं० खगेन्द्र झा नैयायिक, मिथिला संस्कृत महाविद्यालय, दीप (मधुवनी) ।

डिजिटल बुक के रूप में प्रकाशित ग्रन्थ

डाकवचन संहिता (टिप्पणी-व्याख्या सहित विशुद्ध पाठ, सम्पूर्ण)
अपभ्रंशकाव्य में सौन्दर्य वर्णन

अध्यापन/प्रशासन अनुभव, कुल = 40 वर्ष

  • व्याख्याता व्याकरणविभाग, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा 17.9.79 से 25.7.85 तक, = 06 वर्ष
  • प्रधानाचार्य- ज० ना० ब्र० आदर्श सं० महाविद्यालय, लगमा, दरभंगा 26.7.85 से 2.10.94 तक, ) 09 वर्ष
  • उपाचार्य (रीडर व्याकरणविभाग, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा 3.10.94 से 16.9.95 तक, 01 वर्ष
  • प्राचार्य (प्रोफेसर) व्याकरणविभाग, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा 17.9.95 से 28.2.2019 तक, = 24 वर्ष
  • विभागाध्यक्ष-
    1. 24.2.2009 से 11.3.2012 = 03 वर्ष
    1. 15.112016 से 28.2.2019 तक = 02 वर्ष
  • व्याकरण साहित्यसंकायाध्यक्ष- 18.4.10 से 17.4.18 तक – 2 वर्ष
  • सेवावकाश 28.2.2019
  • उपर्युक्त अवधि में (।) विशेष पदाधिकारी (परीक्षा), (2) प्रभारी (शलाकापरीक्षा), (3) प्रभारी (प्रकाशन विभाग), (4) पुस्तकालय पर्यवेक्षक (केन्द्रीय एवं विभागीय) इत्यादि विश्वविद्यालयीय प्रशासन कार्यों का निष्पादन भी करते रहे हैं।)
  • 1975 से अद्यतन- 25 से अधिक, पत्रिकाओं में आलेख प्रकाशित।
  • प्रवृत्ति- ग्रन्थ सम्पादन समीक्षण एवम् अनुसन्धान।
  • शोध पर्यवेक्षण
    • विद्यावारिधि उपाधिप्राप्त छात्र संख्या- 27
    • विद्यावारिधि शोधकार्यरत गवेषक- 3
    • विद्यावाचस्पति गवेषक उपाधिप्राप्त- 1
  • प्रशिक्षण-  पुनश्चर्या पाठ्यक्रम, मैन्युस्क्रिप्टोलौजी,  पूना, 1997 ई

विशिष्ट शैक्षणिक कार्य

  1. संयोजक, दीनबन्धुझा-शताब्दी समारोह समिति, इसहपुर, मधुबनी, स्मृतिग्रन्थ प्रकाशन, 1978 ई०
  2. संयोजक, कविशेखर बदरीनाथझा ग्रन्थ प्रकाशन समिति, सरिसवपाही, मधुबनी, 1994 से अद्यतन,
  3. संयोजक, आद्याचरणझा अभिनन्दन ग्रन्थ समिति, पटना, अभिनन्दनग्रन्थ प्रकाशन, 1996 ई०
  4. संयोजक, कृष्णमाधवझा शताब्दीसमारोह, सरिसव-पाही, स्मृतिग्रन्थप्रकाशन, 1998 ई०
  5. सदस्य, आचार्य शोभाकान्त जयदेवझा स्मृतिग्रन्थ समिति, दरभंगा, 2007 ई०
  6. सदस्य, मातृका क्रयसमिति, मिथिला संस्कृत शोध संस्थान, दरभङ्गा, 1997 से 2019 ई. तक
  7. निदेशक, व्याकरणकार्यशाला- कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा, 2014 ई०
  8. अध्यक्ष, जगदीश नारायण ब्रह्मचारी आदर्श संस्कृत महाविद्यालय, लगमा, दरभंगा, 2015 से 2021 ई० तक स्वीकृत।
  9. संस्कृत वार्ता, कविता आदि का आकाशवाणी, दरभङ्गा से 1980 से प्रसारण होता रहा है ।
  10. सम्पादक, संस्कृतमनीषा (त्रैमासिकी), कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा, 2013 ई० से 2018 ई. तक

सम्मान

  1. “सम्मानपत्र”, संस्कृत साहित्य परिषद्, देवघर, 1999 ई०
  2. “मिथिलाविभूति” उपाधि, विद्यापति सेवा संस्थान, दरभंगा, 2007 ई०
  3. “भाषा सम्मान”, साहित्य अकादेमी, नई दिल्ली, 2007 ई०
  4. “साहित्यिकी सम्मान”, साहित्यिकी, सरिसब पाही, मधुबनी, 2009 ई०
  5. “तन्त्रनाथ झा जन्मशती सम्मान”, साक्षर, दरभंगा, 2009 ई०
  6. “सुमन स्मृति सम्मान”, पंडित सुरेन्द्र झा “सुमन” स्मृति समिति, दरभंगा, 2010 ई०
  7. “विद्यासागर” उपाधि, मन्दाकिनी संस्कृत परिषद्, दिल्ली, 2015 ई०
  8. “अमृतसम्मान”, बनौली, नेपाल, 2016 ई०
  9. “शैव भारती पुरस्कार”, जंगमवाड़ी मठ, वाराणसी, 2018 ई०
  10. सम्मान -चेतना समिति,पटना, 2020
  11. मिथिलारत्न- अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन,अयोध्या, 2022

Google Books पर प्रकाशित। प्राप्त करने हेतु पुस्तक के नाम पर Click करें।

  • कीर्तिगाथा एवं कीर्तिपताका- महाकवि विद्यापतिकृत

  • कृष्णजन्म- मनबोधकृत

  • कीर्तिलता- महाकवि विद्यापतिकृत
  • सम्मेलन में भाग ग्रहण

    1. 1982 से 1998 तक 7 स्थानों में ।

    2. 1999 से अद्यतन – 44 स्थानों में

    1. साहित्यविभाग, पुनश्चर्यापाठ्यक्रम, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभङ्गा, “साहित्यविद्या” 1999 ई०
    2. व्याकरणविभाग, पुनश्चर्यापाठ्यक्रम, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभङ्गा-”प्रतिभावादः”, 1999 ई०
    3. वल्लभाचार्य ट्रस्ट, गान्धीनगर (गुजरात), “अपभ्रंशशक्तिः”, 1999 ई०
    4. प्रगतसंस्कृत अध्ययन केन्द्र, पुणे विद्यापीठ, पुणे, “स्वतन्त्र्योत्तरकाले मिथिलायां संस्कृतकाव्यरचना”, 1999 ई०
    5. संस्कृतविभाग, संस्कृतवर्षसमारोह, लन्ना०मि० विश्वविद्यालय, दरभङ्गा, “संस्कृतशिक्षा”, 2000 ई०
    6. दिल्ली संस्कृत अकादमी, दिल्ली- कवितापाठ, 2000 ई०
    7. राष्ट्रिय संस्कृत विद्यापीठ, शृङ्गेरी, अखिल भारतीय वाक् स्पर्धा में छात्रों का निर्देशन, 2000 ई०
    8. व्याकरणविभाग, पुनश्चर्या पाठ्यक्रम, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभङ्गा, “वर्णविज्ञानम्”, 2002 ई०
    9. दर्शन विभाग, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभङ्गा, “गीतायाः कर्मयोगः”, 2002 ई०
    10. व्याकरणविभाग, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभङ्गा, “प्राचीन-नव्यव्याकरणयोर्वैशिष्ट्यम्”, 2002 ई०
    11. संस्कृतभारती, नागपुर, “संस्कृत शिक्षकाणां दायित्वम्”, 2003 ई०
    12. संस्कृतविभाग, पुनश्चर्यापाठ्यक्रम (व्याकरण), बिहार विश्वविद्यालय, मुजफ्फरपुर, कारकतत्त्वम्, 2005 ई०
    13. संस्कृतविभाग, पुनश्चर्यापाठ्यक्रम (व्याकरण), बिहार विश्वविद्यालय, मुजफ्फरपुर- “संहिता”,”धात्वर्थः”, 2006 ई०
    14. व्याकरणविभाग, पुनश्चर्यापाठ्यक्रमः, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभङ्गा, “प्रत्ययग्रहणपरिभाषा”, 2006 ई०
    15. “व्याकरणभाषाविज्ञानकार्यशाला”, उत्तरप्रदेश संस्कृत संस्थान, लखनऊ, “निपातार्थविचार:”, 2006 ई०
    16. संस्कृतविभाग, बिहार विश्वविद्यालय, मुजफ्फरपुर, स्वातन्त्र्योत्तरसंस्कृते लोकतन्त्रम्, 2007 ई०
    17. बिहार संस्कृत शिक्षा बोर्ड, पटना- “संस्कृतस्य विकासः”, 2008 ई०
    18. योगी रामसूरत रिसर्च फाउन्डेशन, तिरुवनन्तपुरम् (चेन्नई), “मैथिलीभाषायां संस्कृतस्य प्रभावः”,
    19. दिल्ली संस्कृत अकादमी, नई दिल्ली, “संस्कृत व्याकरण शिक्षण पद्धतिः”, 2009 ई०
    20. मिथिला संस्कृत शोध संस्थान, दरभंगा, “मूलग्रन्थों का मैथिली में अनुवाद”, 2010 ई०
    21. मैथिली विभाग, ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय, दरभंगा- “अनुवादक-सम्मेलन”, 2010 ई०
    22. दिल्ली संस्कृत अकादमी, नई दिल्ली- “पाणिनीयव्याकरणे विकल्पबोधकपदानामुपयोगिता”, 2011 ई०
    23. राष्ट्रिय संस्कृत संस्थान, जयपुर, “लिपिशिक्षा” (मैथिली, बंगाली, नेवारी), 2011 ई०
    24. राष्ट्रिय संस्कृत संस्थान, जयपुर, “मिथिलायां काव्यशास्त्रस्य विकासः”, 2011 ई०
    25. सेन्टर ऑफ एडवान्स्ड स्टडी इन संस्कृत, पुणे विद्यापीठ, पुणे, “वैयाकरणचन्द्रदत्तस्तत्कृत-परिभाषामणिमालायाः पाण्डुलिपिश्च”, 2011 ई०
    26. राष्ट्रिय संस्कृत संस्थान, जयपुर- “शोधप्रविधि एवं पाण्डुलिपिविज्ञानकार्यशाला”, 2011 ई०
    27. राष्ट्रिय संस्कृत संगोष्ठी, श्रीभगवानदास आदर्श संस्कृत महाविद्यालय, हरिद्वार- “नामार्थविचार:”, 2011 ई०
    28. क.जे. सोमैय्या संस्कृत विद्यापीठ, मुम्बई- “स्वातन्त्र्योत्तर विहारप्रान्तीयसंस्कृतकाव्येषु ध्वनितस्थम”, 2012 ई०
    29. राष्ट्रिय संस्कृत संस्थान, जयपुर- “व्याकरणपाठलेखनकार्यशाला”, 2012 ई०
    30. क.जे. सोमैय्या संस्कृत विद्यापीठ, मुम्बई- “मिथिलायां व्याकरणशास्त्रीयपाण्डुलिपि:”, 2013 ई०
    31. राष्ट्रिय संस्कृत संस्थान, दिल्ली- “व्याकरणपाठसंशोधनकार्यशाला”, 2013 ई०
    32. बिहार संस्कृत अकादमी, पटना- “वर्तमानसमये संस्कृतस्य स्थितिः”, 2013 ई०
    33. राष्ट्रिय संस्कृत संस्थान, लखनऊ- “आधुनिकयुगे संस्कृतस्य महत्त्वम्”, 2013 ई०
    34. सामाजिकसद्भावनायां महाभाष्यस्यादानम्, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा, 2014 ई०
    35. संस्कृतानूदितसाहित्ये मैथिलानां योगदानम्, राष्ट्रिय संस्कृत संस्थान, दिल्ली, 2014 ई०
    36. मैथिलीलिपि प्रशिक्षिणम्, लाल बहादुर संस्कृत विद्यापीठ, दिल्ली, 2014 ई०
    37. व्याकरणदर्शनविमर्शः, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय दरभंगा, 2014 ई०
    38. पाण्डुलिपिशिक्षाध्यापनम्, बिहार विश्वविद्यालय, मुजफ्फरपुर, 2015 ई०
    39. मधुसूदन ओझा व्यक्तित्व कर्तृत्व- शंकर शिक्षायतन, नई दिल्ली एवं संस्कृत विश्वविद्यालय, (संगोष्ठी का संयोजन), दरभंगा, 4-5 नवम्बर 2017 ई०
    40. राष्ट्रियशोधसंगोष्ठी, कजे० सोमैय्या संस्कृत विद्यापीठ, मुम्बई, 21.12.2017 (महाभाष्य- 3-4 आह्निक पर व्याख्यान)
    41. व्याकरणशास्त्रार्थ (अर्थवत्त्वम्),  कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा, 29.1.2018 ई०
    42. कारकस्वरूपम्, महामना मदनमोहन मालवीय व्याख्यानमाला, बी.एच.यू., वाराणसी, 12.2.2018 ई०
    43. व्याकरणशास्त्रार्थसभा (लकारोपदेशः)- सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय, वाराणसी, 10.1.2019 ई०
    44. व्याकरणकार्यशाला (रप्रत्याहारः) कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा, 14.1.2019 ई०

    प्रकाशित संस्कृत कविता-

    • 1975 से अद्यतन- 25 से अधिक, पत्रिकाओं में ।

    विशिष्टता

    • 1. प्राचीन पाण्डुलिपि विशेषज्ञ – मैथिली, बंगाली, नेवारी, कैथी, देवनागरी ।
    • संस्कृत, हिन्दी एवं मैथिली भाषाओं में विविध शास्त्रों के लेखक ।

    मार्गनिर्देशन में उपाधि प्राप्त शोधप्रबन्ध विद्यावारिधि (पी-एच.डी.)

    1. डॉ० यशोदानन्द मिश्र “परमलघुमञ्जूषायाः समीक्षात्मकमध्ययनम्” (व्याकरण), 1989 ई०
    2. डॉ. महानन्द मिश्र “भाषावृत्तिपञ्जिका : एक पाण्डुलिपि का सम्पादन एवं समीक्षण”, व्याकरण, 1989 ई०
    3. डॉ० मृत्युजय प्रसाद चौधरी “अव्यय शब्दों का विवेचन”, व्याकरण, 1989 ई०
    4. डॉ० गुलाबचन्द्र मिश्र “चन्द्रालोक एवं अलंकारशेखर का तुलनात्मक अध्ययन” 1991 ई०
    5. डॉ. प्रमोद झा, “म०म० इन्द्रपतिकृत अलङ्कारसमुद्ग का सम्पादन”, साहित्य, 1992 ई०
    6. डॉ० भगवन्नारायण मिश्र, “कालिदास के क्रियापदों का व्याकरणमूलक अध्ययन” 1992 ई०
    7. डॉ० सर्वदानन्द शर्मा “भारद्वाज”, “क्षीरतरङ्गिण्याः समीक्षणम्”, व्याकरण, 1994 ई०
    8. डॉ० हेमनाथ मिश्र, “मिश्र चतुर्भुजकृत भावचिन्तामणि का सम्पादन तथा अमरुशतक की अन्य टीकाओं के साथ तुलनात्मक अध्ययन”, साहित्य, 1994 ई०
    9. डॉ० शत्रुघ्न द्विवेदी, “कौमुदीकल्पलतारीत्या सिद्धान्तकौमुदीसमीक्षा”, व्याकरण, 2000 ई०
    10. डॉ० उदय कुमार झा “प्रतिमानाटक में सामाजिक चित्रण”, साहित्य, 2003 ई०
    11. डॉ० अजय कुमार “धर्मकीर्तिकृत प्रयोगमुखव्याकरणस्य समीक्षा”, व्याकरण, 2004 ई०
    12. डॉ० सिद्धिकुमार झा “वररुचिकृत प्रयोगसंग्रहस्य समीक्षणम्”, व्याकरण, 2004 ई०
    13. डॉ० वंशीधर मिश्र, “व्याकरणे पदार्थविश्लेषणम्”, व्याकरण, 2008 ई०
    14. डॉ० लीलाविहारी चौधरी, “वैयाकरण सिद्धान्तकौमुदी-श्लोकसिद्धान्तकौमुद्योस्तुलनात्मकमध्ययनम्”“, 2009 ई०
    15. डॉ० प्रेमचन्द्र मिश्र, “व्याकरणे वार्तिनिकानामुपयोगिता”, व्याकरण,  2010 ई०
    16. डॉ० शुभेन्द्रनाथ ठाकुर, “शाब्दिकशिरोमणि म०म० शशिनाथझाप्रणीतग्रन्थानां समीक्षणम्”, 2010 ई०
    17. डॉ० विजयनारायण चौधरी, “विद्यापतिकृतपुरुषपरीक्षायाः समालोचना”, साहित्य,  2010 ई०
    18. डॉ० इन्द्रकान्त झा, “प्रवासी मैथिली पंडितों का संस्कृत में योगदान”, साहित्य, 2010 ई०
    19. डॉ० अमरनाथ झा, “पाणिनीयव्याकरणे द्वित्वशास्त्राणां समालोचनात्मकमध्ययनम्”, 2011 ई०
    20. डॉ० अनिल कुमार झा, “शरणदेवकृत-दुर्घटवृत्तेः समीक्षात्मकमध्ययनम्”, 2012 ई०
    21. डॉ० नन्द कुमार चौधरी “पं० जीवनाथ झा कृत काव्यग्रन्थों की समीक्षा”, 2013 ई०
    22. डॉ० संतोष कुमार मिश्र “उणादिसूत्राणां विवेचनात्मकमध्ययनम्”, 2013 ई०
    23. डॉ० संजय कुमार चौधरी “दुर्गासप्तशतीमधिकृत्य व्याकरणाध्ययनम्” 2013 ई०
    24. श्री संतोष कुमार झा, “शब्दार्थसम्बन्धसमीक्षणम्”, 2014 ई०
    25. श्री राधेश्याम झा, “व्याकरणशास्त्रीयं कालविषयकं चिन्तनम्”, 2014 ई०
    26. श्री अरुण कुमार झा, “कारकविषये न्यास-बालमनोरमयोस्तुलना”,  2015 ई०
    27. श्री कृष्ण मोहन झा, “भाषावृत्तिदृष्ट्या परस्मैपदात्मनेपदविमर्शः”, 2019 ई०

    मार्गनिर्देशन में डि.लिट्, उत्तीर्ण

    • 28. डॉ. मधुसूदन तिवारी, “अन्नम्भट्टकृत महाभाष्यप्रदीपोद्योतनस्य नवाह्निकपर्यन्तं समीक्षणम्”, 2014 ई०
    लेखन एवं अध्ययन में लीन पं. झा

    डॉ० शशिनाथ झा द्वारा रचित /सम्पादित ग्रन्थ  (प्रकाशित)

    मौलिक लेखन

    1. शुद्धिकौमुदी, धर्मशास्त्र, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा, 1985 ई०
    2. व्याकरणशास्त्रीयद्वित्वविधिसमीक्षा, मौलिक, व्याकरण, दरभंगा, 2015
    3. लघुरूपकसमुच्चयः, नाटक, दिल्ली, 2016
    4. पञ्जीप्रबन्धनाटकम्, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा, 1986 ई०
    5. मदालसानाटक, मैथिली नाटक, भारती पुस्तक केन्द्र, दरभङ्गा 1988 ई.
    6. कृषिफलम् (रेडियोरूपकम्), नाटक, अजस्रा, लखनऊ, 1996 ई.
    7. सम्मान्य विद्वानों का परिचय, परिचय, सरिसब पाही, 1999 ई.
    8. हरिश्चन्द्रचरित (चम्पूकाव्य), मैथिलीकाव्य, दीप, मधुबनी, 2003 ई.
    9. मधुधारा (संस्कृत कविता), काव्य, नाग प्रकाशक, दिल्ली, 2004
    10. “हनुमान् पचीसी, मौलिक, काव्य, दरभङ्गा, 2005 ई.
    11. निबन्धमन्दारमञ्जरी (मैथिली), निबन्ध, दीप, मधुबनी, 2009 ई.
    12. यार बाबूक गप्प (मैथिली) हास्यकथा, दरभंगा, 2014

    (ख) अनूदित ग्रन्थ

    • 13. बालशिक्षासोपानम्, मूल- दीनबन्धु झा, हिन्दी अनुवाद, शिक्षा, कृष्णदास अकादमी, वाराणसी, 1981ई.  
    • 14. रागतरङ्गिणी, मूल- लोचन, मैथिली अनुवाद, संगीत, मैथिली अकादमी, पटना 1981 ई.
    • 15. प्रभावतीहरणनाटक, मूल- भानुनाथ, मैथिली अनुवाद, नाटक, इसहपुर, मधुबनी, 1983 ई०
    • 16. वातावरणनाटकम्, मूल- पं० गोविन्द झा, मैथिली से संस्कृत अनुवाद, नाटक, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा, 1984 ई०
    • 17. मिथिलापरम्परागतनाटकसंग्रहः, मैथिली अनुवाद, 16 कीर्तनिया नाटक, (1300-1900 ई. तक), सात खण्डों में, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा, 1985 ई०
    • 18. कीर्तिपताका, मूल- विद्यापति ठाकुर, संस्कृत-हिन्दी अनुवाद, काव्य, नाग प्रकाशक, दिल्ली 1993 ई०
    • 19. रसिकमनोरञ्जिनी, मूल- दीनबन्धुझा, हिन्दी अनुवाद, काव्य, नाग प्रकाशक, दिल्ली, 1995 ई०
    • 20 अलङ्कारसमुद्गः, मूल- इन्द्रपति उपाध्याय, हिन्दी अनुवाद, साहित्य, दरभङ्गा, 1997 ई०
    • 21. कीर्तिलता, मूल- विद्यापति ठाकुर,  संस्कृत-हिन्दी अनुवाद, काव्य, दरभङ्गा, 1995 ई०
    • 22. रूपकसमुच्चयः, हिन्दी-मैथिली अनुवाद, नाटक, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा, 1998 ई०
    • 23 निरोष्ठ्यरामचरितमहाकाव्यम्, हिन्दी अनुवाद, काव्य, नाग प्रकाशक, दिल्ली, 1999 ई०
    • 24 राजनीतिसारः, मूल- भवनाथ उपाध्याय, मैथिली अनुवाद, राजनीति, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा, 2000 ई०
    • 25 कामेश्वरप्रतापोदयम्, मूल- जीवनाथ झा, हिन्दी अनुवाद, काव्य, मिथिला शोध संस्थान,  दरभंगा, 2010 ई०
    • 26 अन्तिमप्रणामम्, मूल- पं. गोविन्द झा, मैथिली से संस्कृत अनुवाद, संस्कृत भारती, नई दिल्ली, 2011 ई०
    • 27. छिक्काप्रहसनम्, मूल- हरिश्चन्द्र झा, मैथिली से संस्कृत अनुवाद, नाटक, दरभंगा, 2014 ई०

    (ग) सम्पादित ग्रन्थ

    1. दीनबन्धुस्मृतिग्रन्थ, सम्पादित, स्मृतिग्रन्थ, इसहपुर, सरिसवपाही, मधुबनी, 1976 ई०
    2. समासशक्तिदीपिका, दीनबन्धु झा, सम्पादित, व्याकरण, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभङ्गा, 1977 ई०
    3. उपसृष्टधात्वर्थसंग्रहः, दीनबन्धु झा, सम्पादित, व्याकरण, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभङ्गा, 1981 ई
    4. परमलघुमञ्जूषा, सरलाटीका, सम्पादन, व्याकरण, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय,  दरभङ्गा 1982 ई०
    5. आचारचिन्तामणिः, वाचस्पतिमिश्रः, सम्पादन, धर्मशास्त्र, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय,  दरभङ्गा 1983
    6. हृत्परिवर्तननाटकम्, पं. आनन्द झा, सम्पादन, नाटक, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय,  दरभङ्गा 1984
    7. प्रयोगपल्लवः, म. म. भवनाथकृतः, सम्पादन, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय,  दरभङ्गा, 1984
    8. प्रयोगमुखम्, धर्मकीर्तिः, सम्पादन, व्याकरण, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभङ्गा 1984
    9. प्रयोगदर्पणः, म. म. परमेश्वर झा, सम्पादन, व्याकरण, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय,  दरभङ्गा 1984
    10. गूढार्थदीपिका. म. म. वामदेवः, सम्पादन, धर्मशास्त्र, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय,  दरभङ्गा, 1984
    11. व्यवहारचिन्तामणिः, वाचस्पतिमिश्रः, सम्पादन, धर्मशास्त्र, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय,  दरभङ्गा, 1984
    12. स्मृतितत्त्वसमुच्चयः, सचलमिश्रः, सम्पादन, धर्मशास्त्र, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय,  दरभङ्गा, 1985
    13. स्मृतिदीपिका, उमापतिकृता, सम्पादन, धर्मशास्त्र, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय,  दरभङ्गा 1985
    14. शुद्धिनिर्णयः, उमापतिकृता, सम्पादन, धर्मशास्त्र, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय,  दरभङ्गा 1985
    15. रत्नशतकम्, जीवेश्वरकृतम्, सम्पादन, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय,  दरभङ्गा 1987
    16. तिथिनिर्णयः, म.म. शुभङ्करकृतः सम्पादन, धर्मशास्त्र कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय,  दरभङ्गा 1987
    17. रामजन्म, तेजनाथकृत, सम्पादन, मैथिलीकाव्य, पटना, 1988
    18. शिक्षाप्रसूनम्, सम्पादन, स्मारिका, लगमा,1989
    19. दुर्गासप्तशती, सम्पादन, स्तोत्र, पटना, 1992,
    20. शूद्रविवाहपद्धतिः, सम्पादन, कर्मकाण्ड, पटना, 1993
    21. मैथिलीकाव्यविवेक, बदरीनाथ झा, सम्पादन, साहित्य, सरिसवपाही, मधुवनी
    22. डाकवचनसंहिता, मैथिलीव्याख्या, ज्योतिष, राँटी (मधुबनी),1996  
    23. रसगङ्गाधरः (प्रथमाननम्), संस्कृत-हिन्दी व्याख्या,  साहित्य चौखम्बा, वाराणसी, 1996
    24. राधापरिणयमहाकाव्यम्, कविशेखरबदरीनाथझाकृतम्, सम्पादन, नाग प्रकाशन, दिल्ली, 1998
    25. वर्षकृत्यम्, रुद्रधर-जगद्धरकृतम्, कर्मकाण्ड,  पटना, 1998
    26. समासशक्तिदीपिका, दीनबन्धुझा, (डॉ० सदानन्दझाकृत हिन्दीभाष्य), व्याकरण, सम्पादन, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभङ्गा, 2000
    27. प्रयोगदर्पणः, परमेश्वरझा, व्याकरण, डॉ. सदानन्दझाकृत हिन्दीभाष्य, सम्पादन, व्याकरण, सं.विश्वविद्यालय, दरभंगा, 2000ई.
    28.  55. याज्ञवल्क्यस्मृतिः, व्यवहाराध्याय मिताक्षरा की पं० दुर्गाधरझा कृत हिन्दीव्याख्या, सम्पादन, धर्मशास्त्र भारती विद्या प्रकाशन, वाराणसी, 2001
    29. भाषावृत्तिपञ्जिका, विश्वरूपाचार्यः, सम्पादन, व्याकरण, मिथिला शोध संस्थान, दरभङ्गा 2001
    30. डाकवचनसंहिता (सम्पूर्ण), सम्पादन, ज्योतिष, पटना, 2001
    31. न्यायप्रकाश, म०म०डॉ.गङ्गानाथझा, सम्पादन, दर्शन, (हिन्दी), रत्ना प्रकाशन, वाराणसी, 2002
    32. वेदान्तदीपक, म०म०डॉ. गङ्गानाथझा, सम्पादन, दर्शन (मैथिली) रत्ना प्रकाशन, वाराणसी 2002
    33. संस्कृतशिक्षकः, पं०श्यामानन्दझा,  सम्पादन, व्याकरण, रत्ना प्रकाशन, वाराणसी 2002
    34. षट्चक्रनिरूपणम्, पूर्णानन्दयतिः, सम्पादन, रत्ना प्रकाशन, वाराणसी 2002
    35. चक्रकौमुदी, बदरीनाथझाकृत, सम्पादन, रत्ना प्रकाशन, वाराणसी 2002
    36. दुर्गासप्तशती, गौरीनाथझाकृतव्याख्या, सम्पादन, पटना, 2002
    37. वैयाकरणभूषणसारदीपिका, दीनबन्धुझाकृता, सम्पादन, व्याकरण, दरभङ्गा, 2002
    38. ज्ञापकादर्शः, पं०मणिनाथझा, सम्पादन, व्याकरण, दरभङ्गा, 2002
    39. चण्डीचरित, लालदासकृत, सम्पादन, मैथिलीकाव्य, चेतना समिति, पटना 2003
    40. मैथिली-संस्कृत शब्दकोश, कविशेखर बदरीनाथझा, सम्पादन, कोश, सरिसव-पाही, मधुवनी, 2004
    41. मणिमञ्जरीनाटिका, विद्यापतिकृता, डॉ. मनोजनाथझाकृत हिन्दी व्याख्या, सम्पादन, नाटक, कलाप्रकाशन, वाराणसी, 2005
    42. मिथिलाभाषा रामायण, कवीश्वर चन्दा झा, मैथिलीकाव्य, दरभङ्गा, 2005
    43. दुर्गासप्तशती, मैथिली व्याख्या, सम्पादन, स्तोत्र, पटना, 2006
    44. युगान्तरनाटकम्, मतिनाथमिश्र कृत, सम्पादन, नाटक, मधुवनी, 2007
    45. रत्नकलापः, विष्णुदेवकृत, सम्पादन, ज्योतिष, मिथिला शोध संस्थान, दरभंगा, 2008
    46. पुरुषपरीक्षा, विद्यापतिकृता, सम्पादन, कथाकाव्य, मिथिला शोध संस्थान, दरभंगा, 2009
    47. रुक्मिणीस्वयंवरनाटिका (ब्रह्मदासकृत) सम्पादन, कर्णगोष्ठी, कोलकाता, 2009
    48. जल्पना, जीवनाथ झा कृत, मैथिली, सम्पादन, काव्य, सरिसवपाही, मधुवनी, 2010
    49. अमरकोषः, मुकुन्दकृत व्याख्या, सम्पादन, कोष, मिथिला शोध संस्थान, दरभंगा
    50. साहित्यरत्नाकर, बुद्धिनाथ झा, सम्पादन, साहित्य, सरिसवपाही, मधुवनी, 2010
    51. ध्वनिप्रतिबिम्ब, बुद्धिनाथ झा, सम्पादन, साहित्य, सरिसवपाही, मधुवनी, 2010
    52. सामवत नाटक, अनुवादक- माधव झा, सम्पादन, नाटक, सरिसवपाही, मधुवनी, 2011
    53. जीवनाथझा ग्रन्थावली, मैथिली, संशोधन, काव्यनाटक, इसहपुर, मधुबनी, 2011
    54. व्याकरणपाटलोद्यानम्, स्मारकम्, सम्पादन, विभागपरिचय, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा, 2012
    55. ज्ञातव्यसारसमुच्चयः, संस्कृतम्, संशोधन, धर्मशास्त्र, बिहार संस्कृत अकादमी, पटना 2013
    56. शब्दप्रदीपः, संस्कृतम्, सम्पादन शब्दकोशः बिहार सं. अकादमी, पटना 2013
    57. भक्तसुदर्शननाटक, मैथिली, सम्पादन, नाटक, गंगौली, मधुबनी, 2013
    58. गीतकाशीपति, मैथिली, सम्पादन, काव्य, गंगौली, मधुबनी, 2013
    59. गुरुवाग्विलासः, शोभाकान्त जयदेव स्मृति, सम्पादन, स्मृतिग्रन्थ, दरभंगा, 2014
    60. महनीयमणिमाला, मणिनाथझास्मृति, सम्पादन, स्मृतिग्रन्थ, दरभंगा, 2014
    61. एकावली, गोकुलनाथ उपाध्याय, संस्कृत व्याख्या, छन्दःशास्त्र, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा, 1985 ई०
    62. कविरहस्य, म.म.डॉ. गंगानाथ झा, सम्पादन, साहित्य, दरभंगा, 2015
    63. पार्वतीपरिणयनाटकम्, बाणकृत, संस्कृत व्याख्या, नाटक, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा, 1986 ई०
    64. कठोपनिषद्, संस्कृतपद्यमयीव्याख्या, सम्पादन, उपनिषद, दरभंगा, 2016
    65. आचार्य रामचन्द्रमिश्ररचनासंग्रहः, सम्पादन, साहित्य, वाराणसी, 2016
    66. व्युत्पत्तिवाद-शक्तिवादविवृतिः, म.म. विश्वनाथ झा, सम्पादन, न्याय, 2017
    67. मैथिलकवीनां लघुकाव्यसंग्रहः, सम्पादन, काव्य, दरभंगा, 2017
    68. महावाक्यरत्नावलिः, सम्पादन, उपनिषद्, दरभंगा, 2017
    69. स्फोटविमर्शः, संगोष्ठीस्मारिका, सम्पादन, व्याकरण, 2017
    70. वैद्यनाथशतकम्, पं.राजेन्द्र झा, सम्पादन, काव्य, दरभंगा, 2017
    71. अमृतभावप्रवाहः, पं. अमृतनाथ मिश्र, सम्पादन, दरभंगा, 2018
    72. सांख्यकारिका, पं. दुर्गाधर झा, अनुवाद, दर्शन, दिल्ली, 2018
    73. अलंकारशेखर, केशव मिश्र, अनुवाद एवं सम्पादन, साहित्य, दिल्ली, 2018
    74. सिद्धांतशिखामणिः, शिवयोगी, अनुवाद एवं सम्पादन, शैवदर्शन, वाराणसी, 2018
    75. ‘गुणेश्वरचरितचम्पू’- संस्कृत गद्यपद्यात्मक चरितकाव्य- कविशेखर बदरीनाथ झा, हिन्दीव्याख्या एवं सम्पादन- नाग प्रकाशन दिल्ली, 2021ई.
    76. ‘विद्याकर-सहस्रकम्’ (संस्कृत सुभाषितसंग्रह)- संग्राहक- म.म. विद्याकर मिश्र, नाग प्रकाशन, दिल्ली, 2021ई.
    77. ‘गुणेश्वरचरितचम्पू’- संस्कृत गद्यपद्यात्मक चरितकाव्य- कविशेखर बदरीनाथ झा, हिन्दीव्याख्या एवं सम्पादन- नाग प्रकाशन दिल्ली, 2021ई.
    78. ‘विद्याकर-सहस्रकम्’ (संस्कृत सुभाषितसंग्रह)- संग्राहक- म. म. विद्याकर मिश्र, नाग प्रकाशन, दिल्ली, 2021ई.

    प्रकाशित शोधात्मक लेख (संस्कृत)

    1. हकारादिष्वकार उच्चारणार्थः, विश्वसंस्कृतम्, होशियारपुर, 1976
    2. विद्यापतेर्गीतानि, “संस्कृतप्रतिभा”, दिल्ली, 1978
    3. कारप्रत्ययः, “अजस्रा”, लखनऊ, 1980
    4. धातुसम्बन्धे प्रत्ययाः, “अजस्त्रा”, लखनऊ, 1980
    5. शिवरात्रिव्रतम्, विश्वमनीषा, दरभंगा, 1984
    6. पाणिनीयाः संज्ञाः, विश्वमनीषा, दरभंगा,1984
    7. भागीरथपुरशिलालेखः, विश्वमनीषा, दरभंगा, 1985
    8. संस्कृतग्रन्थसम्पादनकला, विश्वमनीषा, दरभंगा, 1986
    9. नाट्साहित्ये मैथिलपरम्परा, “आदर्शः”, हरिद्वारम्, 1987
    10. केशवीशिक्षा, शिक्षाप्रसूनम्, लगमा, 1989
    11. महाभाष्यकारः पतञ्जलिः, शिक्षाप्रसूनम्, लगमा,1989
    12. पाणिनीयशिक्षाद्वयविवेचनम्, शोधप्रभा, दिल्ली, 1992
    13. निरोष्ठ्यरामचरितकारो रुचिकरः, संस्कृतप्रतिभा, दिल्ली, 1992
    14. ज्यौतिषं नेत्रमुच्यते, विश्वमनीषा, दरभंगा, 1993
    15. प्राचीनकालिकः शास्त्रार्थः, संस्कृत सम्मेलनम्, पटना, 1994
    16. सरस्वतीकण्ठाभरणरत्नदर्पणकारो रत्नेश्वरः, सारस्वतकुसुमाञ्जलि, दरभंगा,1995  
    17. व्याकरणे स्फोटात्मको ध्वन्यात्मकश्च शब्द: “संस्कृतसञ्जीवनम्”, पटना, 1995
    18. मुखं व्याकरणं स्मृतम्, “सारस्वतसुषमा”, पटना, 1997
    19. अलङ्कारलक्षणम्, “कृष्णमाधवचिन्तामणिः”, सरिसव-पाही, 1998
    20. महावैयाकरणदीनबन्धुझाशर्मण: परिचयः “सुरभारती”, पातेपुरम्,1999
    21. व्याकरणे नित्यानित्यशब्दोपयोगः, “हरिहरशतदलम्” इलाहाबाद, 2000
    22. दाह्यप्रथोन्मूलनोपायाः, “सारस्वतम्”, पटना, 2001
    23. भगवत्पाद शङ्कराचार्य की अमूल्य कृतियाँ, “शङ्कराचार्य पञ्चविंशतिशती स्मृतिग्रन्थ, पटना,  2001
    24. श्रीवैष्णमताब्जभास्करमतानुसारी भक्तिविवेचन, श्रीरामानन्दाचार्य 602वीं जयन्ती स्मारिका, 2002, अहमदाबाद
    25. मिथिलायां संस्कृतकाव्यरचना (1947-2003) “संस्कृत राइटिंग्स इन इन्डपेन्डेन्ट इन्डिया”, साहित्य अकादेमी, नई दिल्ली, 2003
    26. पाणिनीयव्याकरणे प्राचीन-नव्यविभागः “संस्कृत सप्ताह स्मारिका”, दरभंगा, 2004
    27. धर्मः संस्कृतञ्च, विश्वसंस्कृतम्, होशियारपुर, 2005
    28. “वैयाकरणसिद्धान्तमञ्जूषादृष्ट्या शुद्धाद्वैताभिमतकरणकारणवाद-समीक्षा”, “सारस्वत निबन्धावली”, लखनऊ, 2006
    29. स्वातन्त्र्योत्तरसंस्कृतरचनासु लोकतन्त्रम् “विद्योत्तमा”, मुजफ्फरपुर, 2007
    30. मीमांसाशास्त्रे शब्दो द्रव्यं ध्वनिर्गुणः, “म०म०बालकृष्णमिश्रस्मृतिग्रन्थः”, सरिसबपाही, 2007
    31. निपातार्थविचारः, “व्याकरणदर्शनविमर्शः”, लखनऊ, 2007
    32. सनातनशब्दस्य व्याकरणम्, “संस्कृत सप्ताह स्मारिका”, दरभंगा 2007
    33. महाराजाधिराजकामेश्वरसिंहपरिचयः “संस्कृत सप्ताह स्मारिका”, दरभंगा, 2009
    34. मिथिलायां धर्मशास्त्रग्रन्थरचना, “वाचस्पतिसौरभम्”, पुरी, 2010
    35. भारतीय संस्कृति, “वाचस्पतिसौरभम्”, पुरी, 2010
    36. नामार्थविवेचनम्, “आदर्शः”, हरिद्वारम्, 2012
    37. स्वातन्त्र्योत्तरबिहारप्रान्तीयसंस्कृतकाव्येषु ध्वनितत्त्वम् “विद्यारश्मि:”, मुम्बई, 2012
    38. कवियों के प्रशंसामूलक उपनाम, “सुसंस्कृतम्”, वाराणसी, 2012
    39. म०म०चित्रधरोपाध्यायस्य परिचय: “पं.शशिकान्तझास्मृतिग्रन्थः”, दिल्ली, 2013
    40. मिथिलायां व्याकरणपाण्डुलिपि:, “विद्यारश्मि:”, मुम्बई, 2013
    41. दरभंगायां प्रकाशिताः संस्कृत पत्रिका:, संस्कृतमनीषा, दरभंगा, 2014
    42. चन्द्रदत्तझाकृता परिभाषामणिमाला, संस्कृतमनीषा, दरभंगा, 2014
    43. रत्नपाणिकृता प्रशस्तिमाला, संस्कृतमनीषा, दरभंगा, 2015
    44. मण्डनमिश्रस्य माहिष्मती, संस्कृतमनीषा, दरभंगा, 2015
    45. पाण्डवगीता, हिन्दीव्याख्या, धर्मायण, पटना, 2016
    46. स्नातकोत्तरविभागीयशोधपत्रिका, व्याकरण,  सम्पादन- दरभंगा, 2016
    47. भक्तिसूत्रम्, सत्यनारायण झा, संस्कृतमनीषा, दरभंगा, 2016
    48. कुण्डकादम्बरीसारोद्धार:, म.म.गोकुलनाथः, संस्कृतमनीषा, दरभंगा, 2016
    49. परमलघुमञ्जूषायां नागेशस्य नूतनोद्भावना, संस्कृतमनीषा, दरभंगा, 2016
    50. रविव्रतम्, संस्कृतमनीषा, दरभंगा, 2016
    51. ऊष्मविवेकः (गदसिंहः) सम्पादन संस्कृतमनीषा, दरभंगा, 2017
    52. लघुरत्नकोषः (पुरुषोत्तमदेवः), सम्पादन, संस्कृतमनीषा, दरभंगा, 2017
    53. अम्बाष्टकम् (सत्यनारायण झा), सम्पादन, संस्कृतमनीषा, दरभंगा, 2017  
    54. सांख्ये इन्द्रियाणि तत्कार्यञ्च, भामती स्मारिका, ठाढ़ी, मधुबनी, 2018
    55. “अष्टाध्यायीस्थाः संज्ञाशब्दाः”- संस्कृतमनीषा, वर्ष 16, 2021ई.
    56. “धर्मशास्त्रीया शुद्धिः”- अङ्कज्योतिः भागलपुर, 2021
    57. “प्रेरणाक आदर्श”- अर्पण, दरभंगा- 2021ई.
    58. “मिथिलाक वैदुष्यक आदर्श उदयनाचार्य”- अयोनिजा, अयोध्या, 2021ई.
    59. “अयाचीमिश्रक विद्यावैभव”- अयाची शंकर, सरिसब, 2021ई.
    60. “सांख्यशास्त्रमे पुरुष”- भामती, ठाढ़ी, 2021ई.

    मैथिली साहित्य प्रकाशित

    (क) मौलिक रचना

    1. मदालसा नाटक, भारती पुस्तक केन्द्र, दरभंगा, 1998 ई.
    2. हरिश्चन्द्रचरितचम्पू, तीर्थनाथ पुस्तकालय, दीप, 2003 ई.
    3. निबन्धमन्दारमञ्जरी (शोधात्मक निबन्ध-संग्रह) तीर्थनाथ पुस्तकालय, दीप, 2009 ई.
    4. यार बाबूक गप्प, हास्य गल्प, तीर्थनाथ पुस्तकालय, दीप, 2013 ई.

    (ख) अनुवाद

    1. रागतरङ्गिणी, लोचन, मैथिली अकादमी, पटना, 1981 ई.
    2. प्रभावतीहरणनाटक, भानुनाथ, इसहपुर, मधुबनी, 1983 ई.
    3. वातावरणनाटकम्, मूल पं. गोविन्द झा, “बसात” नाटक, मैथिलीसँ संस्कृत अनुवाद, 8. कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा, 1984
    4. अन्तिमप्रणाम नाटक, मूल पं. गोविन्द झा, “अंतिम प्रणाम” नाटक, मैथिलीसँ संस्कृत अनुवाद, संस्कृत भारती, दिल्ली, 2011 ई.
    5. छिक्काप्रहसनम्, मूल हरिश्चन्द्र झा हरीश मैथिली नाटक छींक प्रहसनक संस्कृत अनुवाद, दरभंगा, 2014 ई.
    6. धूर्तविडम्बनप्रहसनम्, मूल संस्कृतसँ मैथिली, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा, 1998 ई.
    7. राजनीतिसारः म.म. भवनाथ, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा, 2000 ई.

    (ग) व्याख्या-समीक्षापूर्वक सम्पादन

    1. मिथिलापरम्परागतनाटकसंग्रह, 16 कीर्तनियाँ नाटिका, पाठोद्धार, व्याख्या एवं समीक्षा, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा, 1985
      1. धूर्तसमागम प्रहसन, ज्योतिरीश्वर ठाकुर, रचनाकाल 1315 ई.
      2. गोरक्षविजय नाटक, विद्यापति, रचनाकाल 1402 ई.
      3. आनन्दविजय नाटिका, रामदास झा, रचनाकाल 1650 ई.
      4. पारिजातहरण, उमापति उपाध्याय, रचनाकाल 1650 ई.
      5. उषाहरण नाटकम्, देवानन्द, रचनाकाल 1650 ई.
      6. कृष्णकेलिमाला, नन्दीपति, रचनाकाल 1740 ई.
      7. रुक्मिणीपरिणय नाटक, रमापति, रचनाकाल 1750 ई.
      8. गौरीस्वयंवर नाटक, कवि लाल, रचनाकाल 1760 ई.
      9. श्रीकृष्णजन्मरहस्य, श्रीकान्त गणक, रचनाकाल 1760 ई.
      10. गौरी प्रणय नाटक, शिवदत्त, रचनाकाल 1800 ई. (डा. आमोद झा के साथ संयुक्त सम्पादन)
      11. पारिजात नाटक, शिवदत्त, रचनाकाल 1800 ई.
      12. गौरीस्वयंवर नाटिका, कान्हाराम दास, रचनाकाल 1842 (डा. आमोद झा के साथ संयुक्त सम्पादन)
      13. उषाहरण नाटिका, रत्नपाणि, रचनाकाल 1850 ई.
      14. प्रभावतीहरण नाटक, भानुनाथ दैवज्ञ, रचनाकाल 1855 ई.
      15. उषाहरण नाटक, हर्षनाथ झा, रचनाकाल 1885 ई.
      16. माधवानन्द नाटक, हर्षनाथ झा, रचनाकाल 1885 ई.
      17. रुक्मिणीस्वयंवरनाटिका, ब्रह्मदास, रचनाकाल 1625 ई. (स्वतन्त्र ग्रन्थ के रूप में प्रकाशित)
    2. कीर्तिपताका, विद्यापति, नाग प्रकाशक, दिल्ली, 1997 ई.
    3. कीर्तिलता, विद्यापति, शुभंकरपुर, दरभंगा, 1997 ई.
    4. शूद्रविवाहपद्धति, उर्वशी प्रकाशन, पटना, 1993 ई.
    5. डाकवचन संहिता, उर्वशी प्रकाशन, पटना, 2001 ई.
    6. सिद्धान्तशिखामणिः, लिंगायत शैव सम्प्रदायक महान् ग्रन्थ, शिवयोगी, जंगमबाड़ी मठ, वाराणसी, 2018

    (घ) पाठसंशोधन एवं सम्पादन

    1. दीनबन्धुस्मृतिग्रन्थ, इसहपुर, सरिसवपाही, मधुबनी, 1976 ई०
    2. रामजन्म, तेजनाथकृत, उर्वशी प्रकाशन, पटना, 1988
    3. मैथिलीकाव्यविवेक, कविशेखर बदरीनाथ झा, सरिसव, मधुवनी, 1994 ई.
    4. वेदान्तदीपक, म० म०डॉ. गङ्गानाथझा, रत्ना पब्लिकेशन, वाराणसी, 2002
    5. चण्डीचरित, लालदास, चेतना समिति, पटना 2003
    6. मैथिली-संस्कृत शब्दकोश, कविशेखर बदरीनाथझा, सरिसव, मधुवनी, 2004
    7. मिथिलाभाषा रामायण, चन्दा झा, शुभंकरपुर, दरभङ्गा, 2005
    8. दुर्गासप्तशती, लालदास कृत मैथिली व्याख्या, उर्वशी प्रकाशन पटना, 2006
    9. पुरुषपरीक्षा, विद्यापति, चन्दाझा एवं रमानाथझा का मैथिली अनुवाद सहित, मिथिला विद्यापीठ, दरभंगा, 2009
    10. रुक्मिणीस्वयंवरनाटिका, ब्रह्मदास,  कर्णगोष्ठी, कोलकाता, 2009
    11. अमरकोषः, मुकुन्दझाकृत मैथिली व्याख्या, मिथिला विद्यापीठ, दरभंगा
    12. साहित्यरत्नाकर, बुद्धिनाथ झा, सरिसव-पाही, मधुवनी, 2010
    13. ध्वनिप्रतिबिम्ब, बुद्धिनाथ झा, सरिसव-पाही, मधुवनी, 2010
    14. सामवत नाटक, मैथिली अनुवादक- माधव झा, सरिसव पाही, मधुवनी, 2011
    15. जीवनाथझा ग्रन्थावली, समग्र मैथिली रचना, इसहपुर, मधुबनी, 2011
    16. भक्तसुदर्शननाटक, भक्तवर मुकुन्द झा, सरिसद पाही, मधुबनी, 2013
    17. गीतकाशीपति, काव्य, भक्तवर मुकुन्द झा, सरिसव पाही, मधुबनी, 2013
    18. गुरुवाग्विलासः, स्मृतिग्रन्थ, दरभंगा, 2014
    19. महनीयमणिमाला, मणिनाथ झा स्मृतिग्रन्थ, दरभंगा, 2014
    20. सांख्यकारिका, मैथिली में पं. दुर्गाधर झा की रचना का मैथिली रूपान्तरण, 38. श्रीलालबहादुरशास्त्री राष्ट्रिय संस्कृत विद्यापीठ, नई दिल्ली, 2018
    21. संसारसुन्दरीनाटिका, नन्दीपतिकृत बंगला रचना की व्याख्या, कला प्रकाशन,वाराणसी, 2018‘शशिकलापरिणयनाटकम्’- पं. ऋद्धिनाथ झा, संस्कृत मनीषा वर्ष 16, 2021ई.
    22. ‘पूर्णकामनाटकम्’- पं. ऋद्धिनाथ झा, संस्कृत मनीषा वर्ष 16, 2021ई.
    23. ‘कमलानदीपूजनकृत्यम्’- पं. ऋद्धिनाथ झा, संस्कृत मनीषा वर्ष 16, 2021ई.
    24. ‘वाग्वैजयन्ती’(अर्कनाथ चौधरी अभिनन्दनग्रन्थ), जयपुर, 2021

    (ङ) शोधात्मक आलेख पत्रिका सभ में (75 सँ अधिक)

    1. उगना = उग्रनाथ, मिथिला मिहिर, पटना, 1973
    2. पञ्चविधं निरुक्तम्, मिथिला मिहिर, पटना, 1975
    3. राजा भरत, मिथिला मिहिर, पटना, 1975
    4. चन्द्रमाक देवत्व, मिथिला मिहिर, पटना, 1976
    5. विद्यापतिक नवोपलब्ध गीत, मिथिला मिहिर, पटना, 1980
    6. पाणिनीय धातुपाठ ओ मैथिली, मिथिला मिहिर, पटना, 1979
    7. राधापद पङ्कज-नख मिअङ्क, मिथिला मिहिर, पटना, 1979
    8. मुकुन्द झा त्रयी, मैथिली अकादमी पत्रिका, पटना, 1981
    9. अमरकोषक टीका में उपलब्ध मैथिली शब्द, मैथिली अकादमी पत्रिका, पटना, 1984
    10. विद्यापतिक कतिपय परिचयात्मक तथ्य मैथिली अकादमी पत्रिका, पटना, 1984
    11. यथार्थवाद ओ मैथिली एकांकी, “यथार्थवाद ओ आधुनिक साहित्य”, चेतना समिति, पटना, 1984
    12. गीतकार शंकर, परिषद् पत्रिका, दरभंगा, 1988
    13. संस्कृति, भारत शिक्षा संस्कृति उन्नयन समिति, पचही 1988
    14. “धूर्तसमागम” में कतिपय मैथिली शब्द, संकल्प, लहेरियासराय,1989
    15. पाठपरिशोधनः कीर्तिलता ओ कीर्तिपताका, मैथिली अकादमी पत्रिका, 1989
    16. प्रश्नोत्तरमालिका (विद्यापतिकृत), “स्मारिका”, चेतना समिति, पटना, 1991
    17. वंशमणिक मते वाक्यविचार “मैथिली”- वि०वि० मैथिली विभाग, दरभंगा 1996
    18. मिथिलाभाषाक प्रसंग परामर्श (पं. दीनबन्ध झा) गोविन्दझा अर्चा ओ चर्चा, पटना, 1999
    19. मैथिलीक उच्चारण, “कृष्णमाधवचिन्तामणि”, सरिसव-पाही 1999
    20. शब्दकोशकक क्षेत्रमे मिथिलाक योगदान आननद मन्दाकिनी, सरिसव-पाही 2000
    21. दरभङ्गा नामक सार्थकता, “आकांक्षा”, दरभंगा, 2000
    22. मिथिला मे व्याकरण, “अमर अर्चना”, दरभंगा, 2001
    23. चौरासी सिद्ध ओ मिथिला, “उमानाथझा अभिनन्दनग्रन्थ”, दरभंगा 2003
    24. सदुक्तिकर्णामृतकार श्रीधरदास, “कर्णामृत”, कोलकाता, 2003
    25. मैथिलीनाटकक आविर्भावकाल, “मै. नाटकक विकास”, साहित्य अकादेमी, नई दिल्ली, 2006
    26. प्राचीनग्रन्थक उद्धारक पं० धर्मनाथ झा “श्रद्धाञ्जलि स्मृतिग्रन्थ”, सरिसवपाही, 2006
    27. मैथिली क्रियापदक जटिलता, “मैथिली” वि.वि., मैथिली विभाग, दरभंगा, 2007
    28. सामाजिक सुव्यवस्थाक आधार स्मृतिग्रन्थ “मैथिली”, ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय, मैथिली विभाग, दरभंगा, 2008
    29. सरकारी कागज ओ झाड़फूकक पुरान मैथिली, “मैथिली”, ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय, मैथिली विभाग, दरभंगा, 2009
    30. कार्तिक मासक पावनि, “मिथिला दर्शन”, कोलकाता, 2009
    31. मैथिलीक दुर्लभग्रन्थक उद्धारक डॉ० जयकान्त मिश्र- जयकान्त जयन्तिका, पटना, 2010
    32. दुर्गापूजाक विधि ओ महत्त्व, “मिथिला दर्शन”, कोलकाता, 2010
    33. शंकरमण्डनशास्त्रार्थ, “मिथिला दर्शन”, कोलकाता, 2011
    34. विवाहक विधि ओ महत्त्व, “मिथिला दर्शन”, कोलकाता, 2011  
    35. डॉ० रामदेवझाक अनुसंधान कार्य “नन्दीपतिगीतिमाला” ओ “उमापति”- सव्यसाची, दरभंगा, 2011
    36. म०म० देवनाथ ठाकुरक परिचय, साहित्यिकी विशेषांक, सरिसवपाही, 2011
    37. मिथिलाक प्राचीन विद्वान्,”विभूति वन्दना”, कोलकाता, 2011
    38. रावणवधमहाकाव्यक छन्दोविधान, “मैथिली”, -6, ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय, दरभंगा, 2011
    39. स्व०लोकपतिसिंहक काव्यदृष्टि, “अर्पण”-28, दरभंगा, 2011
    40. विद्यापतिक गीतमे तन्त्रक प्रभाव, “कर्णामृत”, कोलकाता, 2012
    41. कवीश्वर चन्दाझाक संस्कृत रचनाक भावभूमि, “कवीश्वर चन्दाझाक पुण्यशती संगोष्ठी आलेख” साहित्य अकादेमी, नई दिल्ली, 2012
    42. विद्यापतिक जीवनपरिचय, “मधुबनी जिला स्थापना स्मारिका”, मधुबनी, 2012
    43. विद्यापतिकें नेपालसँ लागि, “महाकवि विद्यापति आ नेपाल”, ललितपुर, नेपाल, 2012
    44. शब्दक जोड़ी, तिरहुत”-1, मुजफ्फरपुर, 2012
    45. महावैयाकरणदीनबन्धुझाक मैथिलीसेवा “मैथिली”-8, ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय, दरभंगा, 2013
    46. नेपालक मिथिला ओ विद्यापति “आँजुर”, जनकपुर, नेपाल, 2016
    47. दुर्गापूजाक महत्त्व, “आँजुर”, जनकपुर, नेपाल, 2016
    48. सीताविषयक पहिल मैथिली पोथी “मिथिला दर्पण”, मुम्बई, 2016
    49. महाकवि लालदासक पौराणिक स्रोत, “घर बाहर”, पटना, 2017
    50. अद्भुत रामायणक सीता, “मैथिल प्रवाहिका”, रायपुर, 2017
    51. ब्रह्मज्ञानी याज्ञवल्क्य, “शताब्दीवर्ष स्मारिका”, सीतामढ़ी, 2018

    हिन्दी में प्रकाशित आलेखों की सूची निर्माण प्रक्रिया में (शीघ्र प्रकाश्य)

    निरन्तर लेखन जारी…….

    Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.